D.pharma Kya Hai: योग्यता, एडमिशन, सिलेबस, फीस, स्कोप, सैलरी

क्या आप D pharma कोर्स के बारे में जानना चाहते है? अगर हां तो यह आर्टिकल आपके लिए है।

क्योंकि, आज की इस आर्टिकल पे हम लोग D.pharma course details in hindi के बारे में बात करने वाले है।

इसे पढ़े: Software Engineer कैसे बने

यहां आप जानेंगें की D pharma क्या है, डी फार्मा की एलिजिबिलिटी क्या है, कोर्स फी, एंट्रेंस एग्जाम, स्कोप क्या है, क्या जॉब मिल सकता है? इत्यादि

D pharma kya hai, D.pharma course details in hindi

कोई भी स्टूडेंट्स क्यों न हो, उन के पढ़ने का एक ही मकसद होता है, पढ़ाई खत्म होने के बाद उन्हें एक अछि सी जॉब मिल जाये बस।

लेकिन इस कंपीटिशन के ज़माने अछि काम मिलना बहुत ही मुश्किल बन चुका है।

इसलिए स्टूडेंट्स हो या उनके माता पिता, हमेसा अछि प्रोफेशनल कोर्स के तलाश करते रहते है।

मेरी मानो, आज भी बहुत सारे कोर्स है, जिसमे आप अपना उज्वल भविष्य बना सकते है।

मैं एक फार्मासिस्ट होने के नाते आपको कह सकता हूं कि, D pharma एक ऐसा कोर्स है, जहां कम खर्च और कम समय में कोई भी अपना उज्वल भविष्य बना सकते है।

डी फार्मा के बारे मे कुछ भी जानने से पहले हमें यह जानना बहुति जरूरी है कि फार्मेसी क्या है?

तो आइए जान लेते है कि फार्मेसी क्या है? और फार्मेसी कितने प्रकार के होते है?

What is Pharmacy (फार्मेसी क्या है)

Pharmacy चिकित्सा विज्ञान की एक ऐसा शाखा है जहाँ दवाओं के प्रस्तुत करना, बितरण करना, साथ में स्वस्थ सेवाएं कैसे दी जाए इसकी तकनीक सिखाई जाती है।

यह एक ऐसा पेशा है जहां स्वास्थ्य के साथ दवाओं का संजोग स्थापन होता है।

इस पेशा की मुख्य उद्दश्य है, मरीजों के लिए कम से कम खर्च में सुरोक्षित और प्रभाबी दवाओं की सुनिश्चित करना।

Types of Pharmacy (फार्मेसी के प्रकार)

फार्मेसी को तीन भागों में भाग किया गया है। जैसे:

• डी.फार्मा (डिप्लोमा इन फार्मेसी)

बी.फार्मा (बेचएल ऑफ फार्मेसी)

एम.फार्मा (मास्टर ऑफ फार्मेसी)

आज की इस आर्टिकल पे आप सिर्फ डी फार्मा कोर्स के बारे में जानने वाले है।

D.pharma Course Details in Hindi – D pharma क्या है

आइए सुरु करते है सुरुवात से और आपको D pharma course details hindi के बारे में बारीकी से समझाते है।

आशा करता हूं, इस आर्टिकल के आखिर तक आपके सारे सारे सवालों का जवाब मिल जाएगा।

और आपको पता चल जााएगा कि यह कोर्स आपके लिए सही है या नहीं।

D pharma kya hai, D.pharma course details in hindi
D pharma kya hai

D pharma kya hai (What is d pharma in hindi)

D pharma का full form है Diploma in Pharmacy.

डी फार्मा एंट्री लेवल की एक प्रोफेशनल कोर्स है। जिसकी अवधि है दो साल।

जहा दवाओं की उत्पाद, मार्केटिंग, दवाओं की क्वालिटी, स्टोरेज और डिस्ट्रीब्यूशन के बारे मे पढ़ाई जाती है।

इंडिया में,  PCI (Pharmacy Council of India) के द्वारा फार्मेसी के सारे रूल रेगुलेशन को नियंत्रित की जाती है।

Eligibility of D.Pharma (डी फार्मा कोर्स मैं प्रबेश के लिए योग्यता)

दूसरे कोर्स की तरह इस कोर्स के लिए भी एक निर्दिष्ट योग्यता PCI द्वारा निर्धारित किया गया है।

आइए जान लेते है कि डी फार्म कोर्स के लिए क्या योग्यता चाहिए होगी।

Subjects (विषय)

D pharma करने के लिए आपको किसी भी मान्यता प्राप्त बोर्ड से 12 वी में फिजिक्स, केमिस्ट्री, मैथेमैटिक्स

या फिर फिजिक्स, केमिस्ट्री और बायोलॉजी सब्जेक्ट लेकर पास करना होगा।

Marks (अंक)

नंबर की बात की जाए तो सरकारी या फिर निजी कॉलेज में एडमिशन लेने के लिए कम से कम 50 प्रतिशत नंबर चाहिए होगी।

हालांकि SC और ST छात्रों के लिए 45 प्रतिशत नंबर जरूरी है इस कोर्स में एडमिशन लेने के लिए।

कुछ ऐसी कॉलेज है जहां प्रवेश करने के लिए इससे अधिक नंबर की आवश्यकता होती है।

इसे पढ़े: BMLT Course कर के लैब टेक्नीशियन बने

Age (आयु)

हर कोर्स की तरह डी फार्मा कोर्स में प्रवेश करने के लिए भी एक निर्दिष्ट आयु निर्धारित की गई है।

इस कोर्स में प्रवेश करने के लिए आपकी आयु कम से कम 17 साल की होनी चाहिए।

और सर्वाच्च आयु 32 साल की कही कही लिखा रहती है। परंतु यह कभी लागू नही हुआ।

मैं जब फार्मेसी पढ़ रहा था तब मेरे साथ तीन ऐसे छात्रों थे जिनके आयु 35 साल से 40 साल के बीच था।

इसलिए अगर आप सोच रही है कि आपको डी फार्मा करनी है परंतु आयु भी ज्यादा हो गयी है।

तो चिंता मत कीजिए आप बिना किसी मुसीबत के इस कोर्स में एडमिशन ले सकती है।

Entrance exam for d.pharma (D pharma kaise kare)

इसे पढ़े: GNM Nursing कर के नर्स कैसे बनेंगे

डी फार्मा कोर्स में एडमिशन कराने के लिए हर राज्य में अलग अलग नाम से एंट्रेंस एग्जाम लिए जाते है।

जैसे, GPAT, UPSEE, JEE Pharmacy, AU AIMEE, CPMT, PMET वगैरह।

एंट्रेंस एग्जाम में उत्तीर्ण होने के बाद रैंक के बेसिस पर एडमिशन होता है।

परंतु ऐसा बहुत सारे कॉलेज है जहां एडमिशन लेने के लिए आपको किसी प्रकार की एग्जाम देना नहीं पड़ता।

इस तरह के कॉलेज में, स्टूडेंट्स के मेरिट बेसिस पर एडमिशन करवाई जाती है।

D pharma ki Fees kitni hai

हर राज्य में फीस स्ट्रक्चर अलग  होता है। फिरभी मैं आपको एक औसतन फीस बता रहा हूं।

जिसके अंदर, कोई भी राज्य क्यों न हो वहां से डी फार्मा कोर्स कम्पलीट हो जाएगा।

आइये पहले सरकारी कॉलेज की फीस के बारे में बात कर लेते है।

Government College fees

किसी भी राज्य के सरकारी कॉलेज से डी फार्मा करने के लिए 15000 से 30000 हज़ार तक के औसतन फीस लग जाते है (दो साल मिलाकर)।

पश्चिम बंगाल के किसी भी सरकारी कॉलेज से डी फार्मा करने के लिए 5000 से 15000 के तक खर्च हो सकती है।

Privet College

हर प्राइवेट कॉलेज अपनी मुताबिक फीस लेते थे लेकिन सरकार का कहना है, नई शिक्षा नीति आने के बाद अब ऐसा नहीं होगा।

नई नीति के तहत, प्राइवेट कॉलेज के लिए भी एक निर्दिष्ट फीस स्ट्रक्चर बनाई जाएगी।

फिर भी, अगर औसतन फीस की बात की जाए तो 150000 से 350000 रुपिया तक लग जाते है अभी के समय इस कोर्स कम्पलीट करने के लिए।

Top 10 D.Pharma college in India

इसे पढ़े: BBA कोर्स कैसे करेंगे पूरी जानकारी

वैसे तो इंडिया में बहुत सारे कॉलेज है लेकिन मैं यहां आपको  Top 10 D.Pharma college के बारे में बताया गया है।

• जामिया हमदर्द यूनिवर्सिटी; नई दिल्ली

• मणिपाल कॉलेज ऑफ फार्मास्यूटिकल साइंस, मणिपाल, कर्नाटक।

• पूना कॉलेज ऑफ फार्मेसी, पूना, महाराष्ट्र।

• दिल्ली फार्मास्यूटिकल साइंस एंड रिसर्च यूनिवर्सिटी, नई दिल्ली।

• बुंदेलखंड यूनिवर्सिटी, झांसी, उत्तर प्रदेश।

• स्वामी विवेकानंद सुहार्तो यूनिवर्सिटी, मीराट, उत्तर प्रदेश।

• एल एम कॉलेज ऑफ फार्मेसी, अहमदाबाद, गुजरात।

• गुरु घासीदास यूनिवर्सिटी, बिलासपुर, छत्तीसगढ़।

• डेकन स्कूल ऑफ फार्मेसी, हैदराबाद, तेलंगाना।

• एडम्स यूनिवर्सिटी, कोलकाता, पश्चिम बंगाल।

Duration of Course (कोर्स की अवधि)

डी फार्म कोर्स की अवधि 2 साल 3 महीने की है। जिसमें दो साल की थेओरिटीकाल एंड प्रैक्टिकल ज्ञान दी जाती है।

और आखिरी के 3 महीने इंटर्नशिप करनी पड़ती है। इस तीन महीने में कम से कम 500 घंटे ट्रेनिंग करना जरूरी है।

एग्जाम की बात की जाए तो दो साल में चार सेमेस्टर होते है। किसी किसी जगह सेमेस्टर के बदले वार्षिक एग्जाम भी लिए जाते है।

दो साल पूरा होने के बाद, तीन माह की ट्रेनिंग किसी भी अस्पताल या दवाइयों की फैक्ट्री से लिया जा सकता है।

इसे पढ़े: DMLT कोर्स कैसे करेंगे बारीकी से समझे

D pharma ke subject (डी फार्मा कोर्स में क्या विषय है)

D.Pharma 2 साल के कोर्स होने के कारण दोनों साल में अलग अलग विषय पढ़ना पड़ता है।

No.Subjects
1.Pharmaceutics-i
2.Pharmaceutical Chemistry-i
3.Pharmacology
4.Biochemistry & Clinical Pathology
5.Health Education &Community Pharmacy
6.Human Anatomy & Physiology
No.Subjects
1.Pharmaceutics-ii
2.Pharmaceutical Chemistry
3.Pharmacology & Toxicology
4.Hospital & Clinical Pharmacy
5.Drug Store & Business Management
6.Pharmaceutical jurisprudence

Syllabus of D.Pharma ( D.Pharma की पाठ्यक्रम)

डी फार्मा की पूरी सिलेबस जानने के लिए आप इस पीडीएफ डाउनलोड कर सकते है D pharma course details PDF download

यहां आपको 1st ईयर और 2nd ईयर के सिलेबस के बारे में पूरी जानकारी मिल जाएगी।

D pharma ke baad kya kare

कोर्स पूरा होने के बाद आप आगे की पढ़ाई जारी रख सकते है या फिर जॉब कर सकते है।

यह आपके ऊपर निर्भर करते है कि आप क्या करेंगे।

अगर आप आगे की पढ़ाई जारी रखना चाहते है तो आपके लिए कुछ कोर्स नीचे दिया गया है।

D. Pharma के बाद कि पढ़ाई:

जिन लोग हाई प्रोफाइल जॉब करना चाहते है वे इन सारे कोर्स कर सकते है। जैसे कि,

• बैचलर ऑफ फार्मेसी (B pharm)

• डिप्लोमा इन मैन्युफैक्चरिंग/प्रोडक्शन

• डॉक्टर ऑफ फार्मेसी

• फार्मास्यूटिकल एनालिसिस

• कार्डियोवैस्कुलर फार्मेसी

• ऑन्कोलॉजी फार्मेसी

• फार्मकोथेरपी फार्मेसी

• न्यूक्लियर फार्मेसी

अगर आप डी.फार्मा पूरा होने के बाद बी.फार्मा करना चाहते है

तो आपको सीधा बी.फार्मा के दूसरी बर्ष में एडमिशन मिल जाएगा।

इसे पढ़े: ANM Nurse कैसे बनते है

और अगर आप जॉब करना चाहते है तो, D.Pharma के बाद जॉब का स्कोप क्या है इस के बारे मैं नीचे बताया गया है।

Scope of D.Pharma (डी फार्मा के बाद जॉब)

डी फार्मा पूरा होने के बाद सरकारी या फिर निजी कंपनी में जॉब मिलने की स्कोप कई गुना बढ़ जाती है।

दोनों ही सेक्टर के कुछ जॉब के नाम नीचे उल्लेख किया गया है,

Government Job (सरकारी जॉब)

• इंडियन ड्रग्स एंड फार्मास्यूटिकल्स लिमिटेड

• प्रोजेक्ट एंड डिवेलपमेंट इंडिया लिमिटेड

• इंडियन मेडिसिन एंड फार्मास्यूटिकल्स कारपोरेशन

• राजस्थान ड्रग्स एंड फार्मास्यूटिकल्स लिमिटेड

• बंगाल केमिकल्स एंड फार्मास्युटिकल्स लिमिटेड

•कर्नाटक एंटीबायोटिक्स एंड फार्मास्युटिकल्स लिमिटेड

• भारत इम्युनोलॉजिकल्स एंड बायोलॉजिकल्स कारपोरेशन लिमिटेड

• हिंदुस्तान एंटीबायोटिक्स लिमिटेड

• हिंदुस्तान फ़्लोरोकार्बन लिमिटेड

• ओडिशा ड्रग्स एंड केमिकल्स लिमिटेड

Privet Job

• मेडिकल ट्रांसक्रिप्शन

• साइंटिफिक ऑफिसर

• टेक्निकल सुपरवाइजर

• केमिस्ट या ड्रगिस्ट

• प्रोडक्शन एग्जेक्युटिव

• क्वालिटी एनालिस्ट

• मेडिकल रिप्रेजेंटेटिव

इन सारे काम के अलावा विदेशों में फार्मासिस्ट के लिए काफी ज्यादा अवसर है।

आप चाहे तो बिदेश में काम करके अपनी करियर बना सकते है।

या फिर खुद की मेडिकल स्टोर सुरु करके बिजनेस कर सकते है।

Read More > हाई पेइंग जॉब्स इन इंडिया

D pharma ke Baad Kitni Salary Milti hai

सैलरी बहुत सारे चीजो के ऊपर निर्भर करते है। जैसे कि आप कौन सा सेक्टर में काम करना चाह रहे है, सरकारी या निजी कंपनी।

जॉब के पोस्ट कौन सा है, आपके एक्सपेरिएंस है कि नहीं इत्यादि।

अगर आपके कोई भी एक्सपेरिएंस नहीं है तो आपको प्राथमिक स्तर पर 20,000 से 30,000 रुपिया तक के सेलरी मिल जाएगा।

मगर बहुत सारे ऐसे जॉब है जहां पर आप आसानी से 50000 से 100000 तक के सैलरी कमा सकते है।

यह सारे निर्भर करते है आप कहां और कौन सा पोस्ट मैं काम करोगे, इस के ऊपर।

इसे पढ़े:

D pharma समन्धित सवाल जवाब

D pharma ka full form

D pharma का फुल फॉर्म है Diploma in Pharmacy.

यह दो साल की प्रोफेशनल कोर्स है। वी के बाद इस कोर्स के लिए अप्लाई किये जाते है।

क्या आर्ट्स और कॉमर्स के स्टूडेंट्स डी फार्मा कर सकता है?

सीधा सा बात, जिन लोग PCM या PCB बिषय को लेकर 12 वी नही किये है वह कभी भी इस कोर्स के लिए योग्य नहीं माने जाते।

अगर किसी स्टूडेंट्स आर्ट्स या फिर कॉमर्स के है लेकिन 12 वी में उनके काफी अच्छे मार्क्स आये है तो भी वे डी फार्म के लिए योग्य नहीं है।

क्या डिस्टेंस मैं डी फार्मा कोर्स करना सही होगा?

PCI द्वारा डी फार्मा के रेगुलर कोर्स को ही मान्यता दी गयी है।

मगर ऐसी बहुत सारी कॉलेज जो डी फार्म के डिस्टेंस कोर्स के नाम पे सर्टिफिकेट देती है।

अगर आप इसके डिस्टेंस कोर्स करना चाहते है तो मेरी मानो उस सर्टिफिकेट की कोई मूल्य नहीं है।

ऐसा करना सिर्फ समय की बर्बादी के अलावा और कुछ नहीं होगा।
इसे पढ़े: Bsc Nursing करना चाहते है तो Bsc Nursing Course Details से समझे

D pharma के लिए सही कॉलेज का निर्धारण कैसे करें?

सही कॉलेज निर्धारण करने के लिए आपको कुछ बिंदु के ऊपर ध्यान देना होगा।

ये कॉलेज PCI (Pharmacy Council of India) द्वारा एप्रूव्ड है या नहीं यह चेक करना पड़ेगा।

उसके बाद उस कॉलेज के बारे में ऑनलाइन रिव्यु देख सकते है।

और अगर आपके कोई जान पहचान वाले, उस कॉलेज के स्टूडेंट है तो उसके साथ भी बात कर सकते है।

डी फार्मा या बी फार्मा, कौन सा कोर्स करना सही रहेगा?

आप कौन से कोर्स करेंगे यह आपके ऊपर निर्भर करता है।

बी फार्मा के लिए 4 साल और डी फार्मा के लिए 2 साल की जरूरत पड़ती है।

लेकिन दोनों ही कोर्स की डिमांड बाजार में काफी ज्यादा है।

इसलिए अगर आपको जॉब पाने की जल्दी है तो डी फार्मा बेस्ट ऑप्शन हो सकती है।

क्या डी फार्मा पूरा होने के बाद जॉब मिलना आसान है?

मेरे भाई, मैं तो यह नहीं कहूंगा कि आपको सौ प्रतिशत जॉब मिल जाएगा।

लेकिन हां यह कोर्स करने के बाद जॉब पाना काफी आसान हो जाती है।

और आपको एक बात ध्यान रखना चाहिए की, हमारे देश मे हेल्थ से जुड़े कोई भी काम क्यों न हो उसके डिमांड हमेसा से है और आगे भी रहगा।

क्या डी फार्म पूरी होने के बाद हम मेडिकल स्टोर सुरु कर सकते है?

जी हां, आप बिलकुल सुरु कर सकते है। कोर्स पूरे होने के बाद आप एक रजिस्टर फार्मासिस्ट बन जाते है।

इसके बाद आप आसानी से अपना खुद का मेडिकल फार्मेसी सुरु कर सकते है।

क्या रजिस्ट्रेशन नंबर किराए पे दिया जा सकता है?

हां, आप रेंट पर भी दे सकते है। लेकिन इसके लिए आपको कुछ लीगल प्रोसेस से गुजरना पड़ेगा।

उसके बाद ही आप चाहे तो अपना रजिस्ट्रेशन रेंट पे दे सकते है।

सारांश: दोस्तो आशा करता हूं आज की आर्टिकल D pharma course details in hindi आपको पसंद आया होगा।

आर्टिकल के कौन सा स्टेप आपको सबसे ज्यादा पसंद आई है या फिर क्या सीखने को मिला है यह कमेंट में बताना न भूले।

और अगर कोई सवाल या सुझाव है तो कमेंट करके हमे बताये। हम आपके सारे कमेंट का जवाब जरूर देंगे। और अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें।

ऐसे ही शानदार जानकारी बिलकुल मुफ्त में पाने के लिए आप हमारे ब्लॉग को सब्सक्राइब अबश्य करे।

ताकि, जब भी हम कोई आर्टिकल पब्लिश करें, आपको तुरंत नोटिफिकेशन प्राप्त हो जाये और आप उसके फायदे सबसे पहले उठा सकें।

शेयर करो ना यार। धन्यवाद!

यह पढ़े: PGDCA Course Details in Hindi

अपने दोस्तों से साझा करें

73 Comments

  1. D pharma karne ke baad hospital me 6 month traning karne ke baad fir se exam dena padega registration pane ke liy

    • अभी तक यह रेगुलेशन लागू नहीं हुआ पर बात चल रहा है जल्द ही लागू होने की पूरी संभावनायें है।

Leave a Reply